Doon Prime News
uttarakhand

फार्मा और ऑटो मोबाइल सेक्टर का हब बनने जा रहा उत्तराखंड, 1500-2000करोड़ तक का होगा निवेश

उत्तराखंड एक ओर फार्मा और ऑटो मोबाइल सेक्टर का हब बन रहा है। नए निवेश और पहले से स्थापित उद्योगों के विस्तारीकरण से फार्मा और ऑटोमोबाइल क्षेत्र को पंख लगेंगे। इससे रोजगार के द्वार भी खुलेंगे। वैश्विक निवेशक सम्मेलन से फार्मा सेक्टर में 1500 से 2000 करोड़ रुपये का निवेश होगा।


गौरतलब है की कई कंपनियां निवेश में दिलचस्पी दिखा रही है। वर्तमान में देश के कुल दवा उत्पादन में उत्तराखंड 20 प्रतिशत हिस्सेदारी है। प्रदेश के औद्योगिक क्षेत्र सेलाकुई, हरिद्वार, पंतनगर, रुद्रपुर में 249 औषधि निर्माण इकाइयां स्थापित हैं।


वहीं इसके अलावा ऊधमसिंह नगर जिले में पंतनगर, रुद्रपुर में महिंद्रा एंड महिंद्रा, टाटा मोटर्स, बजाज, हीरो मोटर्स, अशोका लीलेंड ने विनिर्माण इकाइयां स्थापित कर बड़ा निवेश किया है। राज्य की जीडीपी में ऑटो उद्योग का सात प्रतिशत योगदान है। ऑटो मोबाइल और फार्मा सेक्टर की निर्यात में बड़ी भागीदारी है। निवेशक सम्मेलन से नए निवेश से उत्तराखंड ऑटो मोबाइल और फार्मा का हब बनेगा।


बता दें की ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट से प्रदेश सरकार फार्मा और ऑटो मोबाइल को भी प्रोत्साहन दे रही है। नई औद्योगिक नीति के कारण मिले अनुकूल माहौल से राज्य में फार्मा और ऑटो सेक्टर में निवेश बढ़ा है। प्रदेश में वर्ष 2022 के दौरान फार्मा सेक्टर में लगभग 15 हजार करोड़ रुपये का कारोबार किया। अहम बात यह है कि इसमें से 1150 करोड़ रुपये की दवाएं निर्यात की गईं। प्रदेश में फार्मा सेक्टर से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर हजारों लोग जुड़े हैं। इस सेक्टर में निवेश और रोजगार की असीम संभावनाएं हैं।


दरअसल,सरकार के प्रयासों से निर्माता फर्मों के आवेदनों के निस्तारण के लिए केंद्रीय औषधि मानक संगठन के सब जोन ऑफिस उत्तराखंड में स्थापित किया है। फार्मा कंपनियों के लिए ऑनलाइन लाइसेंस प्रक्रिया होने से आवेदन की जटिलता को समाप्त किया गया है और उच्च गुणवत्ता की दृष्टि से सभी अनुमतियां केंद्र व राज्य सरकार के संयुक्त निरीक्षण बाद ही जारी की जाती है।

यह भी पढ़े –*Uttarakhand :सिलक्यारा ऑपरेशन के दौरान सपोर्ट कास्ट क्यों हुआ विफल, जानिए इसके जवाब में क्या बोले अर्नोल्ड डिक्स*


उत्तराखंड फार्मा विनिर्माण हब के रूप में तेजी आगे बढ़ रहा है। निवेशक सम्मेलन से राज्य में 1500 से 2000 करोड़ रुपये के निवेश के लिए निवेशक तैयार है। इससे पहले से स्थापित उद्योगों को नई उम्मीद है। फार्मा कंपनियों को दवाइयां बनाने के लिए कच्चा माल बाहर से मंगाना पड़ता है, जिसमें ट्रांसपोर्ट की लागत बढ़ती है। यदि सरकार ट्रांसपोर्ट पर सब्सिडी की सुविधा दे तो उत्तराखंड पूरे देश में फार्मा क्षेत्र में पहले स्थान पर होगा। – प्रमोद कलानी, अध्यक्ष, उत्तराखंड ड्रग्स मेन्युफैक्चरिंग एसोसिएशन

Related posts

BJP के तीन प्रत्याशी घोषित, टम्टा को लगातार तीसरी बार मिला टिकट; नैनीताल से भट्ट व टिहरी से माला मैदान में

doonprimenews

देहरादून ज्वैलरी शॉप डकैती: कार के अंदर बनाया गया था सीक्रेट बॉक्स, वारदात की तारीख पहले से थी तय

doonprimenews

उत्तराखंड- दो बाइकों की आमने-सामने की भिड़ंत में, एक की मृत्यु तीन लोग घायल।

doonprimenews

Leave a Comment