Doon Prime News
uttarakhand

चारधाम यात्रा ट्रांजिट कैंप में विभागीय अधिकारियों की लापरवाही आई सामने, यात्रियों को 4 घंटे तक पीने के लिए नहीं मिला पानी।

उत्तराखंड से एक बड़ी खबर सामने आ रही है खबर के मुताबिक बताया जा रहा है कि उत्तराखंड चारधाम यात्रा ट्रांजिट कैंप में विभागीय अधिकारियों की लापरवाही सामने आई। बता दें कि सुबह छह बजे पंजीकरण कराने आए यात्रियों को चार घंटे तक पीने के लिए पानी नहीं मिला। करीब 10:15 बजे पानी की आपूर्ति हो सकी। कैंप में व्यवस्थाओं को देखने के लिए सुबह प्रशासन का कोई जिम्मेदार अधिकारी भी मौजूद नहीं था।

वहीं, चारधाम यात्रा में ट्रांजिट कैंप अव्यवस्थाएं कम नहीं हो रही हैं। शनिवार को सुबह छह बजे मध्यप्रदेेश के रतलाम, धार, भिंड, मुरैना और गुजरात के जामनगर के यात्रियों का समूह चारधाम यात्रा ट्रांजिट कैंप पहुंचा। इन यात्रियों में अधिकांश यात्री अपनी बसों से रातभर सफर करके आए थे।

बताया जा रहा है कि प्यासे यात्री जब पानी के लिए वाटर कूलर के पास गए तो वहां पानी नहीं मिला। इसके अलावा, वे यात्री भी परेशान हुए जिन्हें शौचालय जाना था क्योंकि वहां भी पानी नहीं था।यात्रियों की इस समस्या को सुनने के लिए कैंप में यात्रा प्रशासन का कोई अधिकारी मौके पर नहीं था। गढ़वाल आयुक्त के निर्देश के बावजूद कैंप में अब तक हेल्प डेस्क भी नहीं खोली गई। वहीं, पानी के लिए भटकते यात्रियों को बाजार से 20 रुपये प्रति लीटर पानी मंगाना पड़ा।

वहीं, मध्य प्रदेश के उज्जैन से यात्रियों के समूह के साथ आए राधेश्याम नागर ने बताया ट्रांजिट कैंप में यात्रियों को पीने और शौच जाने के लिए पानी नहीं मिला। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड सरकार को यहां पर ऐसे नोडल अधिकारी की तैनाती की जानी चाहिए जो दिनरात यात्रियों की समस्या का समाधान कर सके।

इसी के साथ ट्रांजिट कैंप के यात्री प्रतीक्षालय में कुर्सियां के आसपास चार्जिंग पॉइंट नहीं लगे हैं। शनिवार को कई यात्री मोबाइल चार्ज करने के लिए चार्जिंग पॉइंट ढूंढते रहे। कुछ यात्री ऑफिस में मोबाइल लगाने तो अधिकारियों ने विरोध कर दिया। इसके अलावा, पूछताछ केंद्र न खुलने से तीर्थयात्रियों को यात्रा के दौरान मौसम, धाम तक पैदल दूरी, बसों की बुकिंग आदि की जानकारी नहीं मिल पा रही।

आपको बता दें कि कैंप में बनी डोरमिटरी में आराम करने के लिए प्रति व्यक्ति को 200 रुपये चुकाने पड़ रहे हैं। अभी चारधाम यात्रा ट्रांजिट कैंप में कुछ और काम होने हैं। विभागों को काउंटर उपलब्ध कराए जा रहे हैं। एक-दो दिन में अभाव वाली सुविधाओं की पूर्ति कर दी जाएगी।

Related posts

24नवंबर के सार्वजनिक अवकाश में शासन ने किया बदलाव, अब 28नवंबर को गुरु तेगबहादुर शहीद दिवस पर होगा अवकाश

doonprimenews

उत्तराखंड में ओला -उबर के संचालन को वैध करने के लिए अब नियमावली में होगा बदलाव, एसटीए बैठक में होगा बदलाव

doonprimenews

उत्तराखंड पुलिस सिर्फ कांवरियों की नहीं बल्कि बेजुबान जानवरों की भी कर रही है मदद, देखिए वीडियो।

doonprimenews

Leave a Comment