Doon Prime News
uttarakhand almora

सरकारें बदलीं, नहीं सुधर पाई अल्मोड़ा की पेयजल व्यवस्था; क्या लोगों को अभी भी है उम्मीद??

अल्मोड़ा के लोगों के लिए सबसे पहली पेयजल योजना 1926 में बल्ढौटी गधेरे से बनी। इस योजना के संरक्षण व संवर्धन के लिए पर्याप्त ध्यान नहीं दिए जाने से इससे लोगों को पर्याप्त पानी उपलब्ध नहीं हो पाया। इसके बाद 1932 में स्याहीदेवी से गुरुत्व पर आधारित पेयजल योजना का निर्माण किया गया। उपभोक्ताओं को परेशानी का सामना करना पड़ता है। उत्तराखंड गठन के बाद से राज्य में चार सरकारें अपना शासन चला चुकी हैं। वहीं पांचवीं सरकार का शासनकाल चल रहा है। वहीं कुमाऊं के सर्वाधिक प्राचीन जिले में पेयजल व्यवस्था नहीं सुधर पाई है। जिला मुख्यालय व इसके आसपास की 25 ग्राम पंचायतों की 1.10 लाख की आबादी को उनकी आवश्यकता के अनुसार पेयजल उपलब्ध नहीं हो पा रहा है।

यह भी पढ़े – देहरादून पुलिस ने मिश्रित आबादी/संवेदनशील क्षेत्रों में फ्लैग मार्च कर लोगों से निर्भीक एवं निष्पक्ष होकर मतदान करने के लिए लोगो से की अपील

16 एमएलडी मांग के सापेक्ष मात्र 13.50 एमएलडी पेयजल की ही आपूर्ति वर्तमान में हो पा रही है। ऐसे में उपभोक्ताओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। राज्य गठन के बाद लोगों को उम्मीद थी कि जिला मुख्यालय व आसपास के क्षेत्रों की पेयजल व्यवस्था में सुधार होगा। वहीं 23 सालों बाद भी पेयजल व्यवस्था में सुधार नहीं हो पाया है।

अटक गई पेयजल योजना
अल्मोड़ा के लोगों के लिए सबसे पहली पेयजल योजना 1926 में बल्ढौटी गधेरे से बनी। इस योजना के संरक्षण व संवर्धन के लिए पर्याप्त ध्यान नहीं दिए जाने से इससे लोगों को पर्याप्त पानी उपलब्ध नहीं हो पाया। इसके बाद 1932 में स्याहीदेवी से गुरुत्व पर आधारित पेयजल योजना का निर्माण किया गया। बाद में अल्मोड़ा व इसके आसपास के क्षेत्रों की बसासत बढ़ने पर वर्ष 1952 में कोसी-मटेला-अल्मोड़ा पेयजल योजना का निर्माण किया गया। योजना पुरानी होने के कारण इसकी पेयजल लाइन खस्ताहाल है।

हर तीन-चार माह में पेयजल योजना की पाइप लाइन फट जाने से उपभोक्ताओं को परेशानी का सामना करना पड़ता है। विभिन्न जन संगठन अल्मोड़ा व इसके आसपास के क्षेत्रों के उपभोक्ताओं को उनकी जरूरत के अनुसार पेयजल आपूर्ति के लिए दीर्घकालिक योजना तैयार करन की मांग उठा रहे हैं। इसके बाद भी स्थिति जस की तस बनी है। 20 करोड़ से हो रहा खत्याड़ी पेयजल योजना का निर्माण
खत्याड़ी समेत आसपास की 12 ग्राम पंचायतों की पेयजल समस्या को दूर करने के लिए कपिलेश्वर- खत्याड़ी पेयजल योजना का निर्माण किया जा रहा है। इस योजना का कार्य पूरा हो जाने के बाद ग्रामीणों को राहत मिल सकेगी।अधिकारी ने कही ये बात
उपभोक्ताओं को उनकी जरूरत के अनुसार पेयजल उपलब्ध हो इस दिशा में प्रयास किए जा रहे हैं। ग्रीष्मकाल में उपभोक्ताओं को पेयजल की परेशानी नहीं हो इसके लिए अतिरिक्त टैंकरों की व्यवस्था की जा रही है।

Related posts

रायपुर पुलिस ने डिफेंस शराब की तस्करी करने वाले गिरोह का किया पर्दाफाश , पुलिस ने तीन लोगों को किया गिरफ्तार ,बरामद की 28 पेटी शराब

doonprimenews

उत्तराखंड में लोगों ने जमकर मनाया होली का जश्न, कहीं फूलों से तो कहीं रंगों से एक- दूसरे को दी बधाई, देखें तस्वीरें

doonprimenews

आज से फिर शुरू हुई Booking, तीर्थयात्री 11 मई की यात्रा के लिए टिकट करा सकेंगे Book।

doonprimenews

Leave a Comment