Doon Prime News
Uncategorized

50 हजार की रिश्वत लेते हुए लघु सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता गिरफ्तार, विजिलेंस की टीम की कार्रवाई

लघु सिंचाई खंड नैनीताल के अधिशासी अभियंता कृष्ण सिंह कन्याल को विजिलेंस की टीम ने 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। अभियंता पर ठेकेदार को पैसे का भुगतान करने के बाद इनाम के रूप में रिश्वत मांगने का आरोप था।

विजिलेंस की टीम ने कृष्ण सिंह कन्याल को उस वक्त पकड़ा जब वह नया गांव स्थित एक रेस्टोरेंट, सिक्स सीजन रिजॉर्ट, में ठेकेदार से रिश्वत ले रहे थे। इस मामले में विजिलेंस के सीओ अनिल मनराल ने बताया कि ठेकेदार ने कुछ दिन पहले कार्यालय में पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई थी कि अधिशासी अभियंता उनसे घूस मांग रहा है। ठेकेदार की शिकायत में बताया गया कि बीते वर्ष ग्राम सेलिया में लघु सिंचाई विभाग की गुल निर्माण का ठेका ठेकेदार को मिला था। ठेकेदार ने लगभग 10 लाख रुपये का कार्य पूरा किया, जिसका भुगतान हो गया था। इसी भुगतान के एवज में अभियंता कृष्ण सिंह कन्याल ने ठेकेदार से इनाम के रूप में 50 हजार रुपये की रिश्वत की मांग की थी।

शिकायत की जांच में सत्यता पाई गई, जिसके बाद विजिलेंस के निरीक्षक भानु प्रकाश आर्य के नेतृत्व में एक ट्रैप टीम का गठन किया गया। सीओ अनिल मनराल ने बताया कि इस टीम ने अभियंता को नया गांव कालाढूंगी स्थित सिक्स सीजन रिजॉर्ट के परिसर से रंगे हाथों 50 हजार रुपये लेते हुए गिरफ्तार किया।

गिरफ्तारी के बाद विजिलेंस की टीम ने देर रात तक अभियंता के हल्द्वानी और देहरादून स्थित आवास की तलाशी ली। समाचार लिखे जाने तक तलाशी अभियान जारी था। अभियुक्त कृष्ण सिंह कन्याल से पूछताछ की जा रही है और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के अंतर्गत अभियोग पंजीकृत किया गया है।

विजिलेंस निदेशक डॉ. वी. मुरूगेशन ने ट्रैप टीम को इस सफल अभियान के लिए नगद पुरस्कार देने की घोषणा की है। इस घटना ने एक बार फिर से प्रशासन में फैले भ्रष्टाचार पर रोशनी डाली है और विजिलेंस विभाग की तत्परता और सतर्कता को दर्शाया है।

बृहस्पतिवार को अभियुक्त कृष्ण सिंह कन्याल को कोर्ट में पेश किया जाएगा। कोर्ट में अभियुक्त की पेशी के दौरान विजिलेंस विभाग द्वारा एक विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत की जाएगी, जिसमें अभियुक्त के खिलाफ जुटाए गए सभी साक्ष्य और गवाहों के बयान शामिल होंगे।

यह भी पढ़े: पीलीकोठी में गैस सिलेंडर विस्फोट से भीषण आग, चार लोग गंभीर रूप से घायल

इस घटना ने यह साबित किया है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ सतर्कता विभाग पूरी तरह से सतर्क और तत्पर है। यह कदम भ्रष्टाचारियों के लिए एक सख्त संदेश है कि वे अपने गलत कार्यों से बच नहीं सकते और कानून की पकड़ से बाहर नहीं जा सकते। जनता को भी इस तरह की घटनाओं के खिलाफ अपनी आवाज उठानी चाहिए और भ्रष्टाचार के खिलाफ एकजुट होकर लड़ाई लड़नी चाहिए।

Related posts

यमुनोत्री हाईवे पर दुर्घटनाग्रस्त हुआ यूटिलिटी वाहन, चालक की मौत, चार घायल

doonprimenews

चमोली में दर्दनाक हादसा, खाई में गिरी बाइक, एक बच्चे की मौत

doonprimenews

सरकार ने लिया बड़ा फैसला HDFC, ICICI, Axis बैंक के उपभोक्ता हैं तो जान लें ये बातें।

doonprimenews

Leave a Comment