Doon Prime News
tihri

टिहरीः बिना श्मशान घाट के हैं 42 गांव, जान जोखिम में डाल करते हैं शवों का दाह संस्कार

टिहरीः बिना श्मशान घाट के हैं 42 गांव, जान जोखिम में डाल करते हैं शवों का दाह संस्कार

टिहरी: टिहरी बांध बनने से टिहरी वासियों को फायदा हुआ तो दूसरी तरफ नुकसान भी हुआ. 15 साल से पहले टिहरी बांध का निर्माण हुआ. लेकिन तब से टिहरी बांध की झील के आस-पास के गांवों के लिए श्मशान घाट नहीं बन पाया है. ये हालत तब है जब नदी किनारे शवों का दाह संस्कार करते हुए कई घटनाएं घट चुकी हैं. बावजूद इसके THDC व पुनर्वास विभाग लोगों की मांग पर चुप्पी साधे बैठे हैं. 

15 साल पहले टिहरी बांध का निर्माण हुआ तो 42 वर्ग किलोमीटर तक टिहरी बांध की झील बन गई. इस दौरान लोगों के शव गृह भी झील में डूब गए. अब लोगों को झील के किनारे ही शवों का दाह संस्कार करना पड़ता है. सबसे ज्यादा प्रभावित इससे रौलाकोट गांव के ग्रामीण हैं. क्योंकि रौलाकोट गांव के नीचे नदी किनारे पालेंन नाम की जगह पर एक पैतृक श्मशान घाट हुआ करता था, जिसमें रेका पट्टी के 42 गांवों के लोग शवों का अंतिम संस्कार करने के लिए जाते थे. लेकिन टिहरी झील बनने के बाद अब ग्रामीणों को झील के किनारे ही जान जोखिम में डालकर शवों का अंतिम संस्कार करना पड़ता है.

यह भी पढ़े –  देहरादून SSP का चौकी प्रभारियों को निर्देश, प्रत्येक पीड़ित की शिकायत पर हो न्याय उचित कार्यवाही

कई बार शवों के दाह संस्कार के दौरान लोगों के डूबने जैसी घटनाएं भी हो चुकी हैं. ये हाल तब है जब घाट बनाने के लिए पुनर्वास विभाग के पास  65 लाख रुपये की राशि उपलब्ध है. लेकिन पुनर्वास विभाग घाट निर्माण पर बिल्कुल पर ध्यान नहीं दे रहा है. वहीं, अब रौलाकोट सहित 42 गांवों के ग्रामीणों ने पुनर्वास विभाग और टीएसडीसी को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर जल्दी ही रौलाकोट गांव के नीचे श्मशान घाट नहीं बनाया गया तो शासन-प्रशासन के खिलाफ बड़ा आंदोलन किया जाएगा

वहीं, पुनर्वास विभाग के अधिशासी अभियंता दिनेश कुमार नेगी का कहना है कि इस मामले पर साइट विजिट करने के बाद श्मशान घाट बनाने की कार्रवाई की जाएगी.

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए  यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें. व्हाट्सएप ग्रुप को जॉइन करने के लिए  यहां क्लिक करें,

Share this story

Related posts

बड़ी खबर: Surkanda Devi का फिर से शुरू हुआ रोपवे संचालन, सुबह से कई श्रद्धालु पहुंचे पूजा अर्चना के लिए मंदिर।

doonprimenews

यहां यूटिलिटी खाई में गीरने से पांच लोगों की मौके पर मृत्यु , कई लोग घायल।

doonprimenews

टिहरीः बिना श्मशान घाट के हैं 42 गांव, जान जोखिम में डाल करते हैं शवों का दाह संस्कार

doonprimenews

Leave a Comment