Doon Prime News
uttarakhand

मर्तोलिया के कंधों पर अब नौकरी देने की जिम्मेदारी, बोले – आयोग पर खोया हुआ युवाओं का भरोसा लौटाने का किया जाएगा सबसे पहले प्रयास

मर्तोलिया

खबर उत्तराखंड से जहाँ पुलिस सेवा से रिटायरमेंट के बाद प्रदेश के युवाओं को पुलिस-सेना भर्ती की निशुल्क ट्रेनिंग देने वाले पूर्व आईपीएस जीएस मर्तोलिया के कंधों पर अब नौकरी देने की जिम्मेदारी आ गई है। जी हाँ बता दें की एक बातचीत में उन्होंने कहा कि सबसे पहले आयोग पर खोया हुआ युवाओं का भरोसा लौटाने का प्रयास करेंगे।

जानकारी के लिए बता दें की अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की 2016 में हुई वीपीडीओ भर्ती हो या हाल में हुई स्नातक स्तरीय भर्ती, वन दरोगा, सचिवालय रक्षक सेवा भर्ती पेपर लीक होने के बाद आयोग के प्रति युवाओं का भरोसा खत्म हो गया। आयोग के पूर्व अध्यक्ष एस राजू के इस्तीफे के बाद सचिव संतोष बडोनी को सरकार ने सस्पेंड किया हुआ है। सरकार ने समूह-ग की भर्तियों की जिम्मेदारी आयोग से लेते हुए राज्य लोक सेवा आयोग को दी हुई है। ऐसे हालात में कुर्सी संभालने वाले पूर्व आईपीएस जीएस मर्तोलिया पूरे प्रकरण पर काफी गंभीर हैं।
उन्होंने कहा की चुनौतियां बहुत हैं। आयोग को व्यवस्थित करना होगा।

युवाओं का जो विश्वास खोया है, उसे लौटाने की जिम्मेदारी मिली है। उन्होंने बताया कि अभी तक वह प्रदेश में अलग-अलग जगहों पर जाकर युवाओं को सेना और पुलिस में भर्ती की निशुल्क ट्रेनिंग देते रहे हैं। उनके प्रशिक्षण के बाद कई युवा सेना में भर्ती भी हो चुके हैं। अब उन्हें युवाओं को पूर्ण पारदर्शिता के साथ भर्ती करने की जिम्मेदारी मिली है। वहीं, युवाओं को नशे से बचाने के लिए खेलों में भी आईपीएस मर्तोलिया ने काफी काम किया है। वर्तमान में वह उत्तराखंड एससी-एसटी आयोग में बतौर उपाध्यक्ष सेवाएं दे रहे हैं।

वहीं गणेश सिंह मर्तोलिया वर्ष 1984 में पुलिस उपाधीक्षक के पद पर चयनित हुए थे। पुलिस उपाधीक्षक व अपर पुलिस अधीक्षक के पद पर उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद, वाराणसी, पीलीभीत, एटा, गजियाबाद और उत्तराखंड के ऊधमसिंह नगर, पौड़ी गढ़वाल, नैनीताल, देहरादून व हरिद्वार समेत कई जिलों में उन्होंने अपनी सेवाएं दी हैं।

वर्ष 2005 में भारतीय पुलिस सेवा में पदोन्नत (प्रमोशन) कर पुलिस अधीक्षक, उत्तरकाशी, टिहरी गढ़वाल, कमांडेंट 46वीं वाहिनी पीएसी और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नैनीताल, ऊधमसिंह नगर, देहरादून के पद पर नियुक्त रहे। वर्ष 2012 में पुलिस उप महानिरीक्षक के पद पर पदोन्नत होकर पिथौरागढ़ रेंज, आपदा प्रबंधन कुमाऊं रेंज, सीआईडी, कुमाऊं परिक्षेत्र में नियुक्त रहे।

यह भी पढ़े – यदि आपके घर में रहने वाले सदस्यों की आय में लगातार गिरावट आ रही है या आर्थिक प्रगति में कोई बाधा आ रही है, तो धन लाभ और प्रगति के लिए आप भी करे इस चीज का उपयोग

वर्ष 2016 से पुलिस महानिरीक्षक के पद पर पदोन्नत होकर पुलिस महानिरीक्षक, कुंभ मेला, पुलिस मॉर्डनाइजेशन और पुलिस महानिरीक्षक मुख्यालय/कार्मिक एवं फायर सर्विस में सेवाएं देते हुए 31 अगस्त 2019 को रिटायर्ड हो गए थे। मर्तोलिया को वर्ष 1999 में दीर्घ व सराहनीय सेवा के लिए सराहनीय सेवा पुलिस पदक के अलावा वर्ष 2010 में उत्कृष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति के पुलिस पदक से सम्मानित किया गया था।

Related posts

Uttarakhand : ट्रैकिंग करने गए 9 युवक हुआ लापता, SDRF ने शुरू की खोजबीन

doonprimenews

नाबालिक के साथ दुष्कर्म करने का आरोपी को मसूरी पुलिस ने किया गिरफ्तार

doonprimenews

इस तारीख को होंगे Hemkund Sahib के कपाट बंद, शुरू से अभी तक लगभग दो लाख पंद्रह हजार श्रद्धालु गुरुद्वारा साहिब के दरबार में लगा चुके है हाजिरी

doonprimenews

Leave a Comment