Doon Prime News
uttarakhand

दिवाली से पहले ही बिगड़ी आबोहवा, हरिद्वार और देहरादून में स्थिति चिंताजनक, भुगतने पड़ सकते हैं गंभीर परिणाम

बड़ी खबर उत्तराखंड से जहाँ अभी दिवाली की शुरुआत से पहले ही आबोहवा बिगड़ने लगी है। चिंता की बात यह है कि दो शहरें में प्रदूषण बढ़ गया है। सबसे ज्यादा प्रदूषण हरिद्वार और देहरादून में है। बता दें की हरिद्वार में वायु की गुणवत्ता (एक्यूआई) का स्तर 138 और देहरादून में 126 पहुंच गया है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा दिवाली से पहले कराई गई थर्ड पार्टी मॉनीटिरिंग में यह आंकड़े सामने आए हैं।

इन लोगों को हो सकती है सांस लेने में दिक्कत है


जानकारी के लिए बता दें की एक्यूआई के मध्यम स्तर पर पहुंचने से फेफड़े, सांस, दमा और दिल के मरीजों, बच्चों एवं बुजुर्गों को सांस लेने में दिक्कत हो सकती है।प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सदस्य सचिव एसपी सुबुद्धि ने बताया कि दिवाली से पहले और बाद में प्रदेशभर में सात जगहों पर थर्ड पार्टी निगरानी कराई जा रही है।

यहां भी निगरानी हुई शुरू


वहीं देहरादून में घंटाघर, नेहरू कॉलोनी सहित ऋषिकेश, हरिद्वार, काशीपुर, रुद्रपुर और हल्द्वानी में निगरानी शुरू की गई है। सभी क्षेत्रीय अधिकारियों को इसके लिए निर्देशित भी किया गया था। एयर क्वालिटी इंडेक्स निकालने के लिए पीएम-10, पीएम 2.5, एसओटू, एनओएक्स पैरामीटर पर वायु की गुणवत्ता की निगरानी की जा रही है।
दूसरी ओर ध्वनि प्रदूषण की निगरानी को दीपावली से एक दिन पहले एवं एक दिन बाद साउंड लेवल मीटर से रीडिंग ली जाएगी। जिसका औसत निकाल लिया जाएगा।

यहां है स्थिति


दिनांक घंटाघर, दून नेहरू कॉलोनी, दून ऋषिकेश, हरिद्वार, काशीपुर, हल्द्वानी, रुद्रपुर
17 अक्टूबर 115 102, 95, 108, 105, 102, पता नहीं
18 अक्टूबर 118 104, 96, 117, 106, 100, 102
19 अक्टूबर 119 107, 94, 129, 108, 103, 104
20 अक्टूबर 114 106, 98, 134, 114, 106, 108
21 अक्टूबर 126 118, 106, 138, 109, 99, 105


एक्यूआई स्तर
0-50 अच्छा
51-100 संतोषजनक
101-200 मध्यम
201-300 खराब
301-400 बेहद खराब
401-500 गंभीर

क्या कहते हैं सांस एवं दमा रोग के विशेषज्ञ


बता दें की सांस एवं दमा रोग विशेषज्ञ डा. अनुराग अग्रवाल का कहना है कि प्रदूषण बढ़ने से बच्चे, गर्भवती महिलाएं और सांस समेत दिल के मरीजों को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। हवा में धूल के कणों के साथ घुले बारूद के कण और धुएं के संपर्क में ज्यादा देर रहने वालों को खांसी, आंखों में जलन, त्वचा में चकत्ते पड़ने के साथ उल्टी की समस्या भी हो सकती है। पटाखों के प्रयोग से और ज्यादा प्रदूषण बढ़ेगा।

इन चीजों की मॉनिटरिंग है जरूरी


वहीं दूसरी ओर सडीसी फाउंडेशन के संस्थापक अनूप नौटियाल के अनुसार वायु प्रदूषण के लिए वाहन प्रदूषण, निर्माण गतिविधियां, निर्माण सामग्री, सड़कों पर धूल, कृषि या फसल अवशेषों को जलाना, औद्योगिक और बिजलीघर, उत्सर्जन, नगर निगम के कचरे को जलाना, थर्मल एनर्जी पावर प्लांट, पहाड़ी क्षेत्रों में खनन आदि है। इन पर मॉनीटिरिंग जरूरी है।

Related posts

एसटीएफ उत्तराखंड द्वारा पेपर लीक मामले में लखनऊ कनेक्शन की एक और कड़ी को किया गया गिरफ्तार

doonprimenews

सेल्फी ने ली जान ,मौत से परिजनों में मच गया कोहराम

doonprimenews

दावों और भाषणों में ही ऊर्जा प्रदेश बन रहा उत्तराखंड,आज भी दूसरे राज्यों से खरीद रहा महंगी बिजली

doonprimenews

Leave a Comment