Doon Prime News
uttarakhand

हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में रैगिंग से हड़कंप,सिर मुंडवाए छात्रों से करवाई कथित परेड

हमेशा रैगिंग के लिए विवादों में रहने वाला हल्द्वानी राजकीय मेडिकल कॉलेज फिर सुर्खियों में आ गया है. ताजा मामला जूनियर छात्रों के रैगिंग के नाम पर सिर मुंडवाने का बताया जा रहा है. जूनियर छात्रों को सिर मुंडवा कर मेडिकल कॉलेज परिसर में घुमाने का कथित वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है. ऐसे में एक बार फिर मेडिकल कॉलेज के ऊपर सवाल खड़े हो रहे हैं.

हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य अरुण जोशी का कहना है कि अभी तक रैगिंग के मामले को लेकर कोई शिकायत नहीं आई है. अरुण जोशी ने कहा कि अक्सर छात्र स्वयं ही सिर को मुंडवा लेते हैं. इसको रैगिंग से जोड़कर नहीं देखा जा सकता है.

यह भी पढ़े – वाराणसी में सीएम धामी: काशी में काल भैरव के किए दर्शन, सुख-समृद्धि की कामना की

वायरल वीडियो में सभी छात्रों के सिर मुंडे हुए हैं. वो एक लाइन में चलते हुए हाथ पीछे कर पीठ पर बैग लिए हुए दिख रहे हैं. बताया जा रहा है कि ये सभी एमबीबीएस के प्रथम वर्ष के छात्र हैं. इन छात्रों ने किसके कहने पर सिर को मुंडवाया, कोई भी इस मामले में बोलने से बच रहा है. इससे कॉलेज प्रशासन की कार्यप्रणाली के ऊपर सवाल खड़े हो रहे हैं.

ऐसे में यह पूरा मामला रैगिंग से जोड़कर देखा जा रहा है. हालांकि दिलचस्प बात ये भी है कि इस पूरे मामले में कोई भी छात्र कुछ भी कहने से बच रहा है. कॉलेज के प्राचार्य अरुण जोशी का कहना है कि अभी तक रैगिंग के मामले को लेकर कोई शिकायत नहीं आई है.

प्राचार्य का कहना है कि अगर इस तरह का कोई मामला सामने आता है तो जांच की जाएगी. जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. अरुण जोशी का कहना है कि छात्र स्वयं ही सिर को मुंडवा लेते हैं. इसको रैगिंग से जोड़कर नहीं देखा जा सकता है. वहीं बीते साल दिसंबर में भी हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में रैगिंग का मामला सामने आया था. तब MBBS छात्रों के दो गुट आपस में भिड़ गए थे. तब एमबीबीएस अंतिम वर्ष के छात्रों ने दो जूनियर छात्रों को पीट दिया था, जिसके बाद मामला और बिगड़ गया था.

पिटाई के बाद जूनियर छात्रों ने बाहर से 3 लड़कों को बुलाया और काफी हंगामा किया. इसके बाद विवाद और बढ़ गया था. इस दौरान छात्रों के दोनों गुटों के बीच मारपीट हुई थी. मारपीट में चार छात्र मामूली रूप से घायल हो गए थे. वहीं कॉलेज प्रशासन ने तब इस पूरे मामले को आपसी विवाद बताया था.

Related posts

Dussehra holiday in Uttarakhand High Court- आज से इतने दिन तक बंद रहेंगे उत्तराखंड में हाई कोर्ट, जानिए कब से शुरू होगी सुनवाई

doonprimenews

निकाह समारोह में शामिल होने आई डेढ़ साल की बच्ची का शव पानी के टैंक में मिला।

doonprimenews

10 मार्च को होने वाली मतगणना को लेकर, DM द्वारा लिया गया बड़ा फैसला

doonprimenews

Leave a Comment