Doon Prime News
uttarakhand

कंपनी में आरडी -एफडी के नाम पर खोले गए फर्ज़ी तरीके से खाते लोगों, लोगों के वोटर आईडी कार्ड का किया गया इस्तेमाल, अब हुए चौंकाने वाले खुलासे

बड़ी खबर जहाँ मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में फंसी कंपनी सोशल म्यूचुअल बेनिफिट निधि लिमिटेड की आर्थिक अपराध शाखा ने जांच शुरू कर दी है।जी हाँ,जल्द ही कंपनी के डायरेक्टरों को पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है। बताया जा रहा है कि कंपनी में आरडी-एफडी के नाम पर फर्जी तरीके से खाते खोलने के लिए लोगों के वोटर आईडी कार्ड का इस्तेमाल किया गया।वहीं आरोप यह भी है कि कुछ खाते खोलने के लिए गैर कानूनी तरीके से आधार कार्ड डाउनलोड किए गए।


आपको बता दें की ऐसे हजारों खातों की जांच आर्थिक अपराध शाखा को करनी है। हालांकि, अभी ये सिर्फ आरोप हैं तो पुलिस के आला अधिकारी भी इस मामले में जांच के बाद ही कुछ कहने की बात कर रहे हैं। मामला 180 करोड़ रुपये से ज्यादा की मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़ा बताया जा रहा है। सबसे पहले इस मामले को खानपुर विधायक उमेश कुमार ने उठाया था।


वहीं उनका कहना है कि उन्होंने इस मामले की अपने स्तर से जांच कराई थी। आरोप है कि काले धन को वैध करने के लिए कई लोगों ने इस कंपनी का सहारा लिया। इस कंपनी में पूर्व सीएम के एक सलाहकार की पत्नी निदेशक थीं तो आसानी से सब काम हो गया। आरोपियों ने लोगों के फर्जी तरीके से वोटर आईडी कार्ड, आधार कार्ड आदि लिए और इनके माध्यम से खाते खोले। किसी के नाम पर 10 हजार की तो किसी के 20 और 50 हजार से एक लाख रुपये तक की एफडी (फिक्स्ड डिपोजिट) कराई गई।


लेकिन जब इन वोटर आईडी कार्ड और आधार कार्ड के पतों पर पड़ताल की गई तो पता चला कि कई लोगों की पहले ही मृत्यु हो चुकी है तो हजारों को इसकी जानकारी ही नहीं है। आरोप है कि सात से आठ साल की उम्र वाले बच्चों की भी एफडी खोली गईं थीं। इन सब खातों की जानकारी विधायक ने सरकार को भी दी थी।


बता दें की अब इस मामले की जांच सरकार के निर्देश पर सीबीसीआईडी के अधीन आर्थिक अपराध शाखा को दे दी गई है। बीते छह अक्तूबर को इस संबंध में आदेश जारी कर दिया गया था। इस क्रम में शाखा ने जांच भी शुरू कर दी है। वहीं आधिकारिक सूत्रों के अनुसार जल्द ही आर्थिक अपराध शाखा में मौजूदा और पूर्व डायरेक्टरों को पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है। इसके साथ ही लोगों के पतों की भी पड़ताल की जा रही है।

यह भी पढ़ें –रांसी मनणी केदारनाथ ट्रैकिंग रूट पर महापंथ में 21 दिनों से बर्फ़ में दबा हुआ ट्रैकर का शव.


शासन के निर्देश पर जांच सीबीसीआईडी के अधीन आर्थिक अपराध शाखा को दी गई है। जांच में जो भी तथ्य आएंगे उसके आधार पर ही कार्रवाई की जाएगी। यदि गड़बड़ी पाई जाती है तो इसमें मुकदमा दर्ज किया जाएगा। अभी इस मामले में ज्यादा कुछ नहीं कहा जा सकता है। -एडीजी वी मुरुगेशन, प्रवक्ता पुलिस मुख्यालय

Related posts

मुख्यमंत्री धामी ने देवभूमि आगमन पर चरण धोकर शिव भक्तों का किया स्वागत

doonprimenews

Uttarakhand weather update : उत्तराखंड में भारी बारिश का अलर्ट जारी, इस दिन से शुरू होगी बारिश, हो जाइए सावधान

doonprimenews

Uttarakhand में यहां होटल में चल रहा sex racket, पुलिस ने छापेमारी की तो मिला ये सब

doonprimenews

Leave a Comment