Doon Prime News
chamoli

जोशीमठ में आई आपदा बन रही पर्यटन में अड़चन…..बर्फ से भरी वादियाँ, लेकिन फिर भी बुकिंग रद्द कर रहे पर्यटक

हिमक्रीड़ा स्थल औली में बर्फ है, शीतकालीन पर्यटन सीजन चल रहा है लेकिन पर्यटक नहीं हैं। पर्यटन से जुड़े जिन कारोबारियों को इन दिनों फुरसत नहीं होती थी वह बिना काम के बैठे हुए हैं। ऐसे में कारोबारियों और उनसे जुड़े कर्मचारियों की रोजी रोटी पर संकट खड़ा हो गया है। जोशीमठ-औली रोपवे को भी सुरक्षा की दृष्टि से बंद किया हुआ है।

आपको बता दें की औली में पर्यटन कारोबार रहता है। यही वह समय होता है जब वह अच्छी कमाई करते हैं। खासकर जब यहां बर्फबारी होती है तो पर्यटकों का हुजूम उमड़ पड़ता है। यहां होटल और अन्य पर्यटन व्यवसाय से जुड़े कारोबारी इस सीजन में खूब व्यस्त रहते हैं। कई बार पर्यटकों को कमरे नहीं मिल पाते तो वे रात्रि विश्राम के लिए जोशीमठ आ जाते हैं लेकिन इस बार जोशीमठ में भू-धंसाव के चलते आई आपदा से कारोबार बुरी तरह प्रभावित हुआ है।

वहीं औली में पर्यटन कारोबार से जुड़े दिपेश भंडारी, प्रदीप डिमरी, पवन कवाण का कहना है कि दिसंबर में बर्फबारी नहीं हुई जिससे पर्यटक अपेक्षाकृत कम पहुंचे। अब बर्फबारी हुई है लेकिन पर्यटक नदारद हैं। गिने चुने पर्यटक ही यहां पहुंच रहे हैं।गढ़वाल मंडल विकास निगम औली के प्रबंधक नीरज उनियाल ने बताया कि औली में पिछले साल दिसंबर में उनके गेस्ट हाउस में 1935 और जनवरी में 1300 पर्यटक पहुंचे थे लेकिन इस बार दिसंबर में तो 1109 पर्यटक पहुंचे लेकिन जनवरी में अभी तक 634 पर्यटक ही पहुंच पाए हैं।

जीएमवीएन के प्रबंधक नीरज उनियाल ने बताया कि औली में बर्फबारी के बावजूद पर्यटक बुकिंग रद्द कर रहे हैं। पर्यटन कारोबार से जुड़े अन्य लोगों का कहना है कि ऐसा पहली बार हो रहा है जब यहां बर्फ पड़ी है लेकिन बुकिंग रद्द हो रही हैं।

यह भी पढ़े –*Motorola Smartphone- मोटोरोला ने लांच किया कम कीमत वाला स्मार्टफोन, फीचर देख आप भी कहेंगे वाह क्या बात है*

दरअसल,औली में गढ़वाल मंडल विकास निगम का गेस्ट हाउस और हट के अलावा 10 से अधिक निजी होटल और लॉज हैं। इसके अलावा होम स्टे, हट भी लोगों ने यहां पर खूब बनाए हुए हैं। बर्फबारी के दौरान स्कीइंग पर्यटकों को स्कीइंग सिखाने, लकड़ी और टायर पर पर्यटकों को बर्फ में खींचने के सहित अन्य कारोबार से भी लोग जुड़े हुए हैं। यहां पर सभी तरह के पर्यटन से 500 से अधिक लोग जुड़े हैं, जिनकी रोजी रोटी इसी से चलती है लेकिन इस बार पर्यटकों के काफी कम आने से सभी का कारोबार प्रभावित हुआ है।

Related posts

आज अपराहन 3:35 मिनट पर विधि विधान के साथ शीतकाल के लिए बद्रीनाथ धाम के कपाट हुए बंद, बड़ी संख्या में तीर्थयात्री रहे मौजूद

doonprimenews

चमोली का हेलंग उर्गम मोटर मार्ग बंद, 19 घंटे से फंसे हैं 250 लोग, 2 हफ्ते में बनेगी सड़क

doonprimenews

जोशीमठ से किमाणा जा रहा था,वाहन हुआ हादसे का शिकार 12 से ज्यादा लोग थे सवार

doonprimenews

Leave a Comment