Doon Prime News
nation

पुलिस हेड कॉंस्टेबल ने की ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या, WhatsApp पर मैसेज कर भेजा सुसाइड नोट ।

शनिवार सुबह हरियाणा के पानीपत जिले में एक हेड कांस्टेबल(Head constable) (ईएचसी) ने सुसाइड (suicide) कर लिया है ईएचसी(EHC) ने सुबह करीब 4 बजे सेक्टर (sector)6 के पीछे रेलवे पटरियों पर एक ट्रेन (train)के आगे कूदकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली. शव की रेलवे ट्रैक(railway track) पर क्षत-विक्षत हालत में पड़ा होने की जानकारी जीआरपी (GRP)को मिली. जीआरपी(GRP) ने शव के पास से मिले दस्तावेजों के आधार पर उसकी पहचान की. सिविल अस्पताल civil Hospital) में पंचनामा भरवा कर शव शवगृह में रखवा दिया गया है. ईएचसी(EHC) ने सुसाइड (suicide)किन वजहों से किया है, इसके बारे में जीआरपी(GRP) जांच कर रही है।

यह भी पढ़े – वाराणसी में सीएम धामी: काशी में काल भैरव के किए दर्शन, सुख-समृद्धि की कामना की

बता दें कि ईएचसी (EHC) पर जनवरी 2022 में एक महिला ने दुष्कर्म के आरोप लगाते हुए केस (Case)दर्ज करवाया था. केस दर्ज होने के बाद से ईएचसी ( EHC) को एसपी (SP) ने लाइनहाजिर कर दिया था. तब ही से मामला थाने में विचाराधीन है। उक्त मुकदमें में ईएचसी(EHC) के साथ-साथ उसके भाई पर भी आईपीसी(IPC) की धारा 323, 34, 376 (2) (N), 506 और 509 के तहत केस(Case) दर्ज हुआ था l

वहीं, ईएचसी (EHC)संदीप कुमार ने इस खौफनाक कदम को उठाने से पहले अपने किसी जानकार को सुसाइड नोट( suicide note) व्हाट्सएप(WhatsApp) पर मैसेज (message)के जरिए लिखकर भेजा. साथ ही उसने रेलवे ट्रैक(railway track) पर खुद के खड़े होने की फोटो (photo)भी भेजी. बता दें कि उन्होंने सुसाइड नोट (suicide note) में लिखा कि आज ज्वाला (काल्पनिक नाम) ने मुझे व्हाट्सएप कॉल (WhatsApp call) करके घर पर बुलाया और मेरे साथ मारपीट की. फिर उसने देव त्यागी और राजेश जाट को भी बुला कर मेरे साथ मारपीट करवाई।. अब मैं इनकी वजह से अपनी जान दे रहा हूं. मेरी मृत्यु के जिम्मेदार तीन आदमी है और मुझे इंसाफ दिया जाए और मेरे पास तीन बेटियां हैं. मैं ज्वाला शर्मा से बहुत तंग आकर अपनी जान दे रहा हूं, उनके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए.।

आपको बता दें कि संदीप ने राजेश जाट और देव त्यागी का मोबाइल नंबर (mobile number)भेजते हुए फिर एक मैसेज(message) लिखा कि में ज्वाला शर्मा से बहुत परेशान था, इसलिए मैं अपनी जान खो रहा हूं. इन तीनों ने मेरे साथ मिलकर बहुत बुरा किया, इनको सजा मिलनी चाहिए. पानीपत सिविल अस्पताल(Panipat civil Hospital) में पहुंचे परिजनों और उसके दोस्तों ने पुलिस प्रशासन से न्याय की गुहार लगाई है. और साथ ही कहा कि मृतक संदीप की तीन बेटियां हैं. उसके जाने से बेटियों के सिर से बाप का साया उठ गया है और उनकी मां अब बहुत परेशान है. बरहाल, परिजनों के बयानों के आधार पर पुलिस मामले की गहनता से जांच करने में जुटी है.।

Related posts

नेपाल से भारी मात्रा में लाई जा रही थी चरस, तस्करीयों को पुलिस ने पकड़ा

doonprimenews

बीते वर्ष दिल्ली और उत्तराखंड में हुए धर्म संसद में भड़काऊ भाषण देने वालों पर क्या एक्शन लिया? सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड और दिल्ली सरकार से मांगा जवाब

doonprimenews

रामनगर में हुआ दर्दनाक हादसा,महिला को बाघ ने बनाया अपना शिकार

doonprimenews

Leave a Comment