Doon Prime News
nation

रसोई गैस लीक होने से घर में आगजनी, महिला व उसके जुड़वां बच्चों की मौत


रसोई गैस लीक होने से घर में आगजनी, महिला व उसके जुड़वां बच्चों की मौत

आनंद पर्वत इलाके में दर्दनाक हादसे में महिला और जुुड़वा बच्चों की आग से झुलसकर मौत हो गई। अस्पताल में भर्ती बच्ची (9) की हालत गंभीर बनी हुई है। उसे आरएमएल से सफदरजंग अस्पताल रेफर कर दिया गया है। खाना बनाने के दौरान रसोई गैस सिलिंडर से गैस रिसाव होने के कारण घर में आग लग गई थी। घटना के समय महिला का पति काम पर गया था और बड़ी बेटी खाना बना रही थी। आनंद पर्वत थाना पुलिस मामले की जांच कर रही है। स्थानीय लोगों का आरोप है कि उनके आग बुझाने के बाद मौके पर दमकल पहुुंची थी।

मध्य जिला डीसीपी श्वेता चौहान ने बताया कि तीनों की शिनाख्त सुशीला (36) और मानसी (7) और मोहन (7) के रूप में हुई है। सुशीला पति राजेश और चार बच्चों मोहन, मानसी, मोनिका और महक के साथ गली नंबर-7, पंजाबी बस्ती, आनंद पर्वत इलाके में रहती थी। राजेश लारेंस रोड स्थित आटा चक्की में काम करता है। मंगलवार सुबह राजेश अपने काम पर चला गया था। सुबह करीब 9 बजे महक (13) कमरे में ही बनी रसोई में खाना बना रही थी। जबकि मां, बहन मोनिका (9) और जुड़वा भाई-बहन मानसी और मोहन सो रहे थे। इसी दौरान अचानक रसोई गैस की पाइप से गैस का रिसाव होने लगा और आग की लपटें निकलने लगीं।

यह भी पढ़े –  घास काटने गई महिला की पहाड़ी से गिरकर मौत, शादी को हुए थे सिर्फ 5 महीने

जगाया। मां महक को कमरे से बाहर निकालने के बाद आग बुझाने की कोशिश करने लगी, लेकिन आग तेजी से कमरे में फैलती चली गई। सुशीला और उसके तीन बच्चे इसके चपेट में आ गए। शोर-शराबा सुनकर आसपास के लोग वहां पहुंचे। करीब एक घंटे तक मशक्कत के बाद लोगों ने आग बुझा दी। स्थानीय लोगों के मुताबिक तब तक दमकल भी वहां नहीं पहुंची थी।

स्थानीय लोगों के मुताबिक महक ने अपनी मां को आग लगने की जानकारी दी तो वह सबसे पहले महक को घर से बाहर निकला। इस बीच आग तेजी से फैलती चली गई। सुशीला बिस्तर पर सो रहे बच्चों को उठाने लगी। लेकिन इस दौरान कमरे में धुआं भर गया। वह और उसके बच्चे धुएं के चपेट में आकर बेहोश हो गए। स्थानीय लोग जब आग बुझाकर वहां पहुंचे तो सभी अचेत और झुलसे हुए थे, उनके कपड़ों में आग लगी थी।

पत्नी और बच्चों के शव को देखकर राजेश का रो-रोकर बुुरा हाल है। राजेश बीच-बीच में बेहोश हो गया। उसे डॉक्टर के पास ले जाया गया। करीब आधे घंटे बाद होश में आने के बाद वह फिर से रोने लगा और बार बार यही कहता रहा कि काश मैं भी बच्चों के साथ मर जाता। सिद्धार्थ नगर के गांव खेड़ा बाजार निवासी राजेश पिछले 15 साल के से दिल्ली के आनंद पर्वत इलाके में परिवार के साथ एक कमरे में रहता था।

दमकल विभाग के निदेशक अतुल गर्ग का कहना है कि एलपीजी सिलिंडर के इस्तेमाल के दौरान सतर्कता बरतने की जरूरत है। घर में गैस की हल्की बदबू आने पर तुरंत इसकी शिकायत करनी चाहिए। साथ ही सिलिंडर को तुरंत घर से बाहर ले जाना चाहिए। इस दौरान कोई भी बिजली का बटन ऑन नहीं करना चाहिए। रसोई घर में इस्तेमाल होने वाले चूल्हे की समय समय पर सर्विस करानी चाहिए। सफाई के दौरान सिलिंडर से जुड़े पाइप की जांच करनी चाहिए। पाइप में कट होने पर उसे तुरंत बदल देना चाहिए।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए  यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें. व्हाट्सएप ग्रुप को जॉइन करने के लिए  यहां क्लिक करें,

Share this story

Related posts

Covid-19 Vaccination : केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, विदेश जाने वाले तीन महीने बाद ले सकते हैं सतर्कता डोज

doonprimenews

दरिंदगी -Uttrakhand की लड़की के social media पर ने दोस्त और

doonprimenews

मुहाना पुलिस के हाथ लगी बड़ी सफलता, प्लेबॉय को किया गिरफ्तार, अपने कस्टमर की सुविधा को ध्यान में रखते हुए अपने गर्दन पर गुदवाते थे खास किस्म का टैटू

doonprimenews

Leave a Comment