Doon Prime News
nation

दर्दनाक-उसकी हर चीख रोंगटे खड़े कर देती है’ हर कोई उस मासूम के लिए इंसाफ मांग रहा है।

Hospital में नीचे की मंजिल पर स्थित एक ward में भर्ती मरीज सुरेश ने तो यहां तक कहा कि दिल्ली ऐसे घिनौने अपराध का अड्डा बनता जा रहा है, पुलिस को एक मजबूत संदेश देना चाहिए। लोगों में डर होना चाहिए। उस बच्ची के दर्द के आगे उन्हें अपना भी दर्द महसूस नहीं हो रहा है।

यह  भी पढ़े – पुलिस ने driver को छोटी सी बात पर बहुत बुरी तरह पीटा,हालत गंभीर,जानिए पूरा मामला

Delhi के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती रंजीत नगर दुष्कर्म पीड़ित मासूम की सेहत में बेशक धीरे-धीरे सुधार आ रहा है, लेकिन 72 घंटे बाद भी वह मानसिक आघात से उबर नहीं सकी है। दिन का उजाला हो, रात का अंधेरा, उसकी चीखें हर उस शख्स को अपने दर्द का हिस्सा बना रही हैं, जो जाने अनजाने hospital का general ward से गुजर रहा होता है। चिकित्सकों का कहना है कि अभी यह बता पाना मुमकिन नहीं कि वह सामान्य कब हो सकेगी। मासूम के दिमाग पर इतना गहरा असर पड़ा है कि संभव है कि इसमें लंबा वक्त लग जाए।

बच्ची की चीखें सुन hospital के सभी staff और मरीज दुख में 

दरअसल, शुक्रवार को रंजित नगर इलाके में एक 6 साल की  बच्ची के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया था। वह इस वक्त राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती है। दुष्कर्म की शिकार बच्ची की सेहत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है, लेकिन मानसिक आघात से वह उबर नहीं सकी है। वह अभी भी सदमे में है। हर मिनट चीखती है। अपने दर्द को शब्दों में भी बयां न कर पाने वाली यह मासूम असहनीय पीड़ा और खौफ का सामना कर रही है। हालात इस कदर हैं कि आसपास ward में भर्ती मरीज, डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल staff और तीमारदार हर कोई बच्ची के लिए भगवान से इंसाफ मांग रहा है।

डॉक्टर बोले- ऐसे मामले देख गुस्सा और दुख दोनों आता है

Operation के बाद एक दिन ICU निगरानी और फिर सामान्य वार्ड में पहुंची बच्ची को लेकर एक डॉक्टर ने यहां तक कहा कि बच्ची के दिल-दिमाग पर वह घटना इस तरह हावी है कि उसे ठीक होने में लंबा वक्त लग सकता है। उन्होंने बताया, ‘जब भी मैं ऐसे मामले देखता हूं तो गुस्सा और दुख दोनों ही रहता है। उस बच्ची का जीवन अभी शुरू भी नहीं हुआ है और उसे ऐसे दर्द से सामना करना पड़ रहा है जिसका अंत कब हो पाएगा, इसका जबाव चिकित्सीय विज्ञान के पास नहीं है। हम चाहकर भी उसे सामान्य जिंदगी नहीं दे सकते, जब तक वह या उसका परिवार न संभाल ले।’

‘उसकी हर चीख रोंगटे खड़े कर देती है’

पास के ही वार्ड में अपने पति का इलाज करा रहीं सविता ने बताया कि शनिवार और रविवार दो दिन से वह लगातार बच्ची की चीखें सुन रहीं हैं। पहले उन्हें नहीं पता था लेकिन एक नर्स से पता चला तो उसकी हर चीख रोंगटे खड़ा कर देती है। भगवान ऐसा किसी के साथ न करे, बच्चों के साथ तो बिलकुल भी नहीं। मुझे नहीं पता कि यह सब कैसे और किसने किया है? लेकिन जिसने भी यह अपराध किया है उसे सरेआम फांसी होनी ही चाहिए।

वहीं नीचे की मंजिल पर स्थित एक वार्ड में भर्ती मरीज सुरेश ने तो यहां तक कहा कि दिल्ली ऐसे घिनौने अपराध का अड्डा बनता जा रहा है, पुलिस को एक मजबूत संदेश देना चाहिए। लोगों में डर होना चाहिए। उस बच्ची के दर्द के आगे उन्हें अपना भी दर्द महसूस नहीं हो रहा है।

Related posts

गया में चार लोगों को फांसी देकर नक्सलियों ने घर को बम से उड़ाया

doonprimenews

CRPF में निकली बंपर भर्तियां, अब बिना Exam दिए बन सकते हैं अधिकारी, जानिए कैसे करें आवेदन।

doonprimenews

IND vs NZ: हार के बाद बल्लेबाजों पर बरसे विराट,पढ़िए पूरी खबर

doonprimenews

Leave a Comment