Doon Prime News
nation

आज वैश्विक प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक 2021, भारत दो स्थान नीचे लुढ़का



 भारत में हर साल 16 नवंबर को राष्ट्रीय प्रेस दिवस मनाया जाता है जो स्वतंत्र, निष्पक्ष और जिम्मेदार पत्रकरिता की याद दिलाता है. इस दिन भारतीय प्रेस परिषद ने यह सुनिश्चित करने के लिए एक नैतिक प्रहरी के रूप में कार्य करना शुरू किया कि प्रेस उच्च मानकों को बनाए रखे और किसी भी प्रभाव या खतरों से विवश न हो. यह उस दिन को भी याद दिलाता है जब भारतीय प्रेस परिषद ने काम करना शुरू किया था.
भारतीय प्रेस परिषद का गठन पहली बार 4 जुलाई 1966 को एक स्वायत्त, वैधानिक, अर्ध-न्यायिक निकाय के रूप में किया गया था, जिसके अध्यक्ष न्यायमूर्ति जे आर मुधोलकर थे, जो उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश थे. 1956 में, पहले प्रेस आयोग ने निष्कर्ष निकाला था कि पत्रकारिता में पेशेवर नैतिकता को बनाए रखने का सबसे अच्छा तरीका एक वैधानिक प्राधिकरण निकाय बनाकर प्राप्त किया जा सकता है जिसमें मुख्य रूप से उद्योग से जुड़े लोग शामिल हों और गतिविधियों में मध्यस्थता कर सकते हों. इसके कारण 1966 में प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया का गठन हुआ.

यह भी पढ़े – ऋषिकेश आवास विकास कॉलोनी में घुसा गुलदार, बंद फैक्ट्री को बनाया आशियाना, लोगों में मचा हड़कंप
भारतीय प्रेस परिषद का गठन 1966 में प्रेस परिषद अधिनियम 1978 के तहत किया गया था. यह प्रेस की स्वतंत्रता की रक्षा के लिए अपने कर्तव्य में राज्य के कानूनों पर भी अधिकार का प्रयोग करता है. यह सुनिश्चित करता है कि भारतीय प्रेस किसी बाहरी तत्वों से प्रभावित न हो.

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए  यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें. व्हाट्सएप ग्रुप को जॉइन करने के लिए  यहां क्लिक करें,Share this story

Related posts

भारत की इस महिला ने बनाया सबसे अधिक उम्र में मां बनने का रिकॉर्ड,जानिए कितनी है उम्र

doonprimenews

इस Central Bank of India के लोकर से तीन करोड़ के जेवरात चोरी, बैंक मैनेजर,लॉकर इंचार्ज समेत छह आरोपियों के विरुद्ध कार्रवाई।

doonprimenews

Leave a Comment